India Markets closed

क्रेडिट कार्ड्स कितने प्रकार के होते हैं और उनके लाभ क्या हैं?

आदिल शेट्टी
Photo:www.pixabay.com

प्रश्न: मैंने हाल ही में काम करना शुरू किया है और मैं अपना पहला क्रेडिट कार्ड लेने की सोच रहा हूँ। लेकिन इससे पहले मैं यह जानना चाहता हूँ कि क्रेडिट कार्ड्स कितने प्रकार के होते हैं और उनके लाभ क्या हैं? मैं अपने लिए एक क्रेडिट कार्ड कैसे चुन सकता हूँ?
गौरव पंत

उत्तर: बाजार में कई तरह के क्रेडिट कार्ड्स उपलब्ध हैं। प्रत्येक कार्ड की अपनी कुछ अलग विशेषताएं होती हैं और उनके लाभ भी अलग-अलग होते हैं जो ग्राहकों की अनोखी क्रेडिट सम्बन्धी जरूरतों को पूरा करने में मददगार होते हैं। नियमित वेतनभोगी लोग, अक्सर हवाई जहाज से यात्रा करने वाले लोग, खरीदारी के शौक़ीन लोग, छात्र, इत्यादि के लिए भी कई तरह के कार्ड्स उपलब्ध हैं। लेकिन कोई भी क्रेडिट कार्ड खरीदने से पहले, बाजार में उपलब्ध तरह-तरह के क्रेडिट कार्ड्स और उनकी विशेषताओं के बारे में जान लेना चाहिए।

रेगुलर क्रेडिट कार्ड: शुरुआतियों के लिए, एक रेगुलर क्रेडिट कार्ड, रिवार्ड पॉइंट्स और डिस्काउंट पाने का एक बहुत बढ़िया विकल्प हो सकता है। आप अपने परिवार के बेहद करीबी सदस्यों के लिए ऐड-ऑन कार्ड्स भी ले सकते हैं।

को-ब्रांडेड कार्ड्स: इस तरह के कार्ड उन लोगों के लिए फायदेमंद होते हैं जो अक्सर हवाई जहाज से आना-जाना करते हैं। इस तरह के कार्ड पर कार्ड धारक को फ्लाइट्स की टिकटों पर डिस्काउंट, एक्स्ट्रा एयर माइल्स, फ्री लाउंज एक्सेस, इत्यादि जैसे लाभ मिल सकते हैं। एयर माइल्स को रेडीम करके फ्री फ्लाइट्स का आनंद भी उठाया जा सकता है।

प्रीमियम और सुपर प्रीमियम क्रेडिट कार्ड्स: यदि आप एक वेतनभोगी व्यक्ति हैं, तो वेतन या आमदनी बढ़ने पर आप एक प्रीमियम या एक सुपर प्रीमियम कार्ड लेने के बारे में सोच सकते हैं। इस तरह के कार्ड पर आपको ज्यादा क्रेडिट लिमिट मिलेगी और रिवार्ड्स और डिस्काउंट भी ज्यादा मिलेंगे।

कैशबैक कार्ड्स: ये कार्ड्स उन लोगों के लिए फायदेमंद होते हैं जो अपने रोजमर्रा के खर्च पर कैशबैक पाना चाहते हैं। ये कैशबैक, रिवार्ड्स के रूप में दिए जाते हैं, जिनका इस्तेमाल क्रेडिट कार्ड पर बकाया राशि के निपटान के लिए किया जा सकता है। एक कैशबैक कार्ड का इस्तेमाल करने पर आपको कुछ दुकानों में डिस्काउंट भी मिल सकते हैं।

सिक्योर्ड कार्ड्स: जैसा कि इसके नाम से ही पता चलता है कि ये कार्ड, किसी तरह की जमानत जैसे कि एक फिक्स्ड डिपोजिट के आधार पर दिए जाते हैं। ये उन लोगों के लिए बने होते हैं जिनका क्रेडिट स्कोर अच्छा नहीं है या जिनकी आमदनी उतनी नहीं है कि वे एक क्रेडिट कार्ड के लिए अप्लाई कर सके। इस तरह की जमानत से क्रेडिट कार्ड कंपनियों को क्रेडिट कार्ड बिल के पेमेंट में डिफ़ॉल्ट या चूक होने की चिंता नहीं रहती है क्योंकि डिफ़ॉल्ट होने पर वे जमानत की रकम में से बिल का अमाउंट काट सकते हैं। इस तरह के कार्ड पर जल्दी अप्रूवल मिल जाता है, इनका इंटरेस्ट रेट भी अनसिक्योर्ड कार्ड्स की तुलना में कम होता है और इनसे एक क्रेडिट स्कोर तैयार करने में भी मदद मिलती है जिससे भविष्य में लोन मिलने में आसानी होती है।

चूंकि आप पहली बार एक क्रेडिट कार्ड लेने जा रहे हैं, इसलिए आपको सही कार्ड का चुनाव करते समय निम्नलिखित बातों को ध्यान में रखना चाहिए:

– एक ऐसा कार्ड लेने की कोशिश करें जिसका एनुअल मेंटेनेंस फीस जीरो हो।

– जीरो एनुअल मेंटेनेंस फीस या ‘नो फ्रिल क्रेडिट कार्ड्स’ पर बहुत ज्यादा बार कैशबैक ऑफर या डिस्काउंट नहीं मिलता है।

– इसका मुख्य लाभ यही है कि इसमें आपको इंटरेस्ट फ्री क्रेडिट पीरियड मिलता है जैसा कि हाई-एंड कार्ड्स में मिलता है।

पर्सनल फाइनेंस से जुड़ा कोई सवाल पूछना चाहते हैं? ट्विटर पर @adhilshetty पर हैशटैग #AskAdhil के साथ मुझे पिंग करें।